Conjunctivitis in Hindi कंजक्टिवाइटिस क्या है, इसके लक्षण, रोकथाम एवं इलाज

Conjunctivitis (Pink Eye) in Hindi (कंजक्टिवाइटिस) – यह बीमारी आँख में होने वाली एक सामान्य बीमारी है | प्रायः कंजक्टिवाइटिस (Conjunctivitis in Hindi) बीमारी बच्चों में अधिक मात्रा में होती है तथा बड़े लोगों को कम मात्रा में होती है | Conjunctivitis in Hindi (कंजक्टिवाइटिस) बीमारी एक संक्रामक बीमारी है अर्थात यह बीमारी संक्रमण से फैलाने वाली बीमारी है |

कंजक्टिवाइटिस क्या है |

Pink Eye (Conjunctivitis in Hindi) – कंजक्टिवाइटिस आँख में होने वाली एक बीमारी है | इस बीमारी में आंख बहुत ज्यादा लाल हो जाती है और आँख में जलन, दर्द के साथ-साथ खुजली भी होने लगती है | आंख से कीचड़ व पानी भी गिरता है | संपूर्ण आंख में सूजन भी हो जाती है | इस तरह यह बीमारी बहुत कष्टदायक बीमारी है और रोगी बहुत ही कष्ट में रहता है |

चलिए जानते है कि यह बीमारी आंख के किस भाग में होता है | हमारे आँख के संरचना अनुसार, आँख का एक भाग कंजेक्टिवा होता है , यह रोग आँख के इसी भाग में होने वाली एक बीमारी है | आँख के संरचना अनुसार कंजेक्टिवा एक पारदर्शी झिल्ली है जो श्वेत पटल एवं पलक के भीतरी भाग में अवस्थित होता है | उसी पारदर्शी झिल्ली में सूजन हो जाता है | यदि उस सूजन को गौर से देखें तो झिल्ली के सूक्ष्म रक्त वाहिकाओं में रक्त भरा रहता है ऐसा दिखाई देता है |

Are you also troubled by a cataract then you should read this once – What is Cataract.

कंजक्टिवाइटिस होने के क्या कारण है

what-is-conjunctivitis-in-hindi
what-is-conjunctivitis-in-hindi

कंजक्टिवाइटिस (Conjunctivitis in Hindi) होने के कारण – यह बीमारी मुख्यतः निम्न कारणों से होता हैं |

(i) जीवाणु संक्रमण
(ii) विषाणु संक्रमण
(iii) एलर्जी
(iv) आंतरिक अंग के खराब के कारण

रसायन विज्ञान कक्षा 12 नोट्स in hindi में पढ़े भी और download भी करें

कंजक्टिवाइटिस के लक्षण क्या है

कंजक्टिवाइटिस के लक्षण – इस बीमारी का लक्षण इसके कारणों पर निर्भर करता है | मेरे कहने का आशय यह है कि यदि रोगीयों को कंजक्टिवाइटिस होने के अलग-अलग कारण हैं तो उनके लक्षण भी अलग-अलग हैं | सभी लक्षणों का वर्णन नीचे किया गया है –

जीवाणु जनित संक्रमण के लक्षण

  1. रोगी जब सोकर उठता है तो उसे पता चलता है कि एकाएक उसकी आंखें चिपक गई है | उनमें चिपचिपा गाढ़ा पीले रंग का स्त्राव निकलने लगा है | रात में यह स्त्राव सूखकर पपड़ी बन जाता है तथा पलकों को चिपका देता है
  2. आंखें लाल हो जाती है
  3. आंख में जलन होती है

विषाणु जनित संक्रमण के लक्षण

  1. आंखें लाल होना
  2. आंख में कुछ गरना
  3. गले में खराश
  4. आंख में जलन
  5. आंख से पानी गिरना
  6. कान के सामने वाले लसीका ग्रंथि में सूजन

एलर्जी जनित संक्रमण के लक्षण

  1. नाक तथा आंख से पानी गिरना
  2. आंखें लाल एवं आँख में सूजन
  3. आँख में खुजली
  4. स्त्राव का रंग पानी जैसा होना

आंतरिक अंगों के खराबी के कारण होने वाले संक्रमण के लक्षण

  1. हृदय रोग से प्रभावित संक्रमण के लक्षण – इसमें आँख के बाहरी अवं भीतरी कोना ही लाल रहता है |
  2. फेफ़ड़ा से प्रभावित संक्रमण के लक्षण – इसमें आँख के सम्पूर्ण श्वेत पटल लाल होता है |
  3. लिवर से प्रभावित संक्रमण के लक्षण – इसमें सम्पूर्ण आँख लाल होता है | साथ ही आँख में सूजन, आँख में पानी गिरना, प्रकाश से घृणा तथा दर्द होता है |
  4. युरोगेनिटल ऑर्गन से प्रभावित संक्रमण के लक्षण – इसमें आपको यह बता दू कि यदि बार-बार आपको कंजक्टिवाइटिस हो रहा है तो इसमें मूत्राशय, प्रोस्टेट, बच्चादानी, ओभरी में से कोई प्रभावित अवशय है |

कंजक्टिवाइटिस के प्रकार

यह दो प्रकार का हैं

(i) Acute Conjunctivitis (ii) Chronic Conjunctivitis

what-is-conjunctivitis-in-hindi
what-is-conjunctivitis-in-hindi

Acute Conjunctivitis के लक्षण

  1. आंख में जमाव, सूजन और दर्द
  2. सरदर्द
  3. बुखार
  4. सतही तेजी से नाड़ी

Chronic Conjunctivitis के लक्षण

  1. दर्द और आंखों की लाली
  2. प्रकाश की असहनीयता

कंजक्टिवाइटिस के रोकथाम

  1. संक्रमण न फैले इसके लिए बार-बार हाथ धोये |
  2. रोगी के तौलिया, रुमाल, बेडशीट, तकिया की खोलें को प्रत्येक दिन बदलकर रोज उसे गर्म पानी से साफ़ करें |
  3. कास्मेटिक का उपयोग न करें |

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें |

अब Motiyabind Cure Centre, Whatsapp पर भी आ गया है – अपना इलाज कराने के लिए अभी संपर्क करे | Call us and whatsapp us on my number.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *